प्रस्तावना (जारी…)

अपने एक निबंध कुटज में ’हजारी प्रसाद द्विवेदी ’ ने लिखा है –

“नाम में क्या रखा है, कोई भी नाम रख लो ।”

हो सकता है यह बात अधिकांश स्थानों पर सत्य हो किन्तु सर्वत्र इसकी सत्यता संदिग्ध ही है । परमात्मा के विविध नामो की चर्चा में गोस्वामी तुलसीदास ने एक कदम आगे बढ़कर अपना ’वीटो पावर’ (Veto Power) लगाया था –

“यद्यपि प्रभु के नाम अनेका । श्रुति कँह अधिक एक ते एका ।

राम सकल नामन ते अधिका । होउ नाथ अघ खग गन बधिका ।”

जहाँ तक अज्ञेय नाम का संबंध है, यह नाम भी मुझे कम अर्थवाह प्रतीत नहीं हुआ । ’अ’ वर्णमाला का पहला अक्षर, ’ज्ञ’ वर्णमाला का अंतिम अक्षर । दोनों मिलकर ’अज्ञ’ हुए । ’अ’= सम्पूर्ण । ज्ञ= ज्ञान ।

Advertisements

अपने एक निबंध कुटज में ’हजारी प्रसाद द्विवेदी ’ ने लिखा है –

“नाम में क्या रखा है, कोई भी नाम रख लो ।”

हो सकता है यह बात अधिकांश स्थानों पर सत्य हो किन्तु सर्वत्र इसकी सत्यता संदिग्ध ही है । परमात्मा के विविध नामो की चर्चा में गोस्वामी तुलसीदास ने एक कदम आगे बढ़कर अपना ’वीटो पावर’ (Veto Power) लगाया था –

“यद्यपि प्रभु के नाम अनेका । श्रुति कँह अधिक एक ते एका ।

राम सकल नामन ते अधिका । होउ नाथ अघ खग गन बधिका ।”

जहाँ तक अज्ञेय नाम का संबंध है, यह नाम भी मुझे कम अर्थवाह प्रतीत नहीं हुआ । ’अ’ वर्णमाला का पहला अक्षर, ’ज्ञ’ वर्णमाला का अंतिम अक्षर । दोनों मिलकर ’अज्ञ’ हुए । ’अ’= सम्पूर्ण । ज्ञ= ज्ञान । ’अज्ञ= अखिलं ज्ञायते येन, अर्थात जिसे सब पता हो वह हुआ ’अज्ञ’ और सारे ज्ञानों से संपृक्त व्यक्तित्व का नाम ’अज्ञेय’ । अज्ञेय नाम कवि वात्स्यायन से ऐसे चिपक गया है जैसे त्वचालिप्त मांस-पिंड । इसलिये यथा नाम तथा गुण के कारण अज्ञेय मुझे बहुत प्रिय हैं । अज्ञेय का अर्थ मूर्ख करने वाली व्याख्या से हम बाद में निपट लेंगे । वैसे न जानने योग्य या अज्ञात व्यक्तित्व समझकर अज्ञेय उपनाम जैनेन्द्र ने उन्हें दे दिया जो दिल्ली जेल से भेंजी गयी इनकी कहानी के साथ जैनेन्द्र जी ने बनारस के जागरण में भेंज दी । स्वयं को अज्ञेय को यह नाम प्रिय नहीं था, परन्तु ” एक बार चल गया तो चल गया ” ।

अज्ञेय की इस बहुश्रुत बहुज्ञ कारयित्री प्रतिभा को सादर स्मृति में लेते हुए मैंने अपने परियोजना कार्य में अज्ञेय को ही चुना है । ’अज्ञेय के काव्य में काम, ध्यान और अध्यात्म’ के विवेचन का मेरा प्रयास है । वैसे तो यह बौने का आकाश चूमने जैसा प्रयास है, या कालिदास की भाषा में कहें – “ततुं उडुपेनापि सागरम” जैसा कार्य है, फिर भी अज्ञेय के काव्य की विशिष्ट एवं अदभुत गरिमा ने मुझे यह कार्य सम्पन्न करने का साहस प्रदान किया है , और इसी का प्रतिफल है यह निबंध ।

इत्यलम !

प्रस्तावना ( लघु शोध प्रबंध )

अपने स्नातकोत्तर ’हिन्दी’ द्वितीय वर्ष के अध्ययन क्रम में पंचम प्रश्न पत्र की आवश्यकता को दृष्टिगत रखते हुए प्रस्तुत प्रबंध को परियोजना कार्य के लिये प्रस्तुत करते हुए मुझे हर्ष है । हिन्दी साहित्य का एक विशाल फलक है और हमें गर्व है कि हमारा आधुनिक हिन्दी साहित्य विश्व के श्रेष्ठ साहित्य से किसी भी अर्थ में न्यून नहीं है । मध्यकालीन सगुण भक्ति साहित्य में जैसे गोस्वामी तुलसीदास एक दीप्त नक्षत्र के रूप में चमकते रहे वैसे ही आधुनिक हिन्दी साहित्य के काव्य-क्षेत्र में ’अज्ञेय जी एक क्लासिक बन गये हैं । अब तक की मनीषा को तो यही लग रहा है कि नयी कविता के हिन्दी साहित्याकाश में ’अज्ञेय’ जैसा  ’न भूतो न भविष्यति’ । मुझे आधुनिक युग में प्रसाद के बाद सबसे प्रभावित करने वाले कवि अज्ञेय ही हैं । इसलिये मैंने अपना प्रोजेक्ट वर्क अज्ञेय पर केन्द्रित किया है । ऐसा व्यक्तित्व और ऐसा कृतित्व हिन्दी क्या विश्व साहित्य में शायद ही कहीं खोजे मिले । कहाँ अज्ञेय मौन हैं, कहाँ मुखर हो गये हैं , इसे ज्ञात करने में बुद्धि को गहन अनुशीलन करना पड़ता है । कहा नहीं जा सकता, अज्ञेय का काव्य मुखर मौन है, या मौन मुखरता है । सन्नाटे को भी पढ़ लेने वाले , शून्य में भी तूलिका चलाने वाले ऐसे कवि पर हिन्दी साहित्य को गर्व क्यों न हो !

 

जारी……..