अज्ञेय की कविता में काम-2

kaam-dhyan-adhyatma

’चिन्ता’ की कवितायें अज्ञेय की काव्य-उर्मि पार्थिव जगत की समग्रता को ग्रहण करती है। एक उर्जस्वित उर्जा, जीवन की सर्वाधिक महत्वपूर्ण उर्जा का स्फुलिंग ही काम है। काम शिखरारोहण करते करते प्रेम बन जाता है। ’विद्यानिवास मिश्र’ ने कहा है कि अज्ञेय के काम या प्रेम में “जीवन रस का आचमन हाथ से नहीं, होठों … पढना जारी रखे

अज्ञेय की कविता में काम-1

काम की अवधारणा एवं अज्ञेय की कविता में इसका शिल्पन अज्ञेय की कविताओं के संकलन की भूमिका में डॉ० विद्यानिवास मिश्र ने बड़ा ही स्पष्ट संकेत दिया है- “अज्ञेय की कविता के तीन चरण दिखते हैं- पहला है विद्रोह और हताशा का, दूसरा है अपने भीतर शक्ति संचय का और तीसरा है बिना किसी आशा … पढना जारी रखे

  • Prakarantar

    इस ब्लॉग पर अकादमिक लेखों के अतिरिक्त अन्य स्थलों पर प्रकाशित व अन्यान्य अवसरों पर लिखी रचनायें प्रस्तुत होँगी। यह रचनायेँ मौलिक हैं परंतु इनके लेखन में विभिन्न साहित्यिक एवं वेब-स्रोतों से सहायता ली गयी होगी एवं कई अन्य अनजाने सहयोग भी प्राप्त हुए होंगे। सुविधानुसार व जानते हुए प्रत्येक स्थान पर उन स्रोतों का उल्लेख कर दिया गया है, परंतु भूलवश या जानकारी न होने के कारण यदि कोई स्रोत-उल्लेख रह गया तो कृपया बतायें। यह ब्लॉग सर्वाधिकार सुरक्षित है की रूढ स्पष्टता से मुक्त है। इस ब्लॉग के उल्लेख के साथ किसी भी सामग्री का रचनात्मक उपयोग इस ब्लॉग के लिए हितकारी होगा।